शनि देव का नाम लिया तो हर कोई टेंशन में आ जाता है। शनि मतलब विपदा, परेशानी, संकट। किसी भी इंसान के जीवन में संकट आये तो लोग हमेशा यही कहावत कहते हैं की “इस इंसान के पीछे शनि पड़ा है।” इसी शनि ग्रह यानि शनि देव का एक सुप्रसिद्ध मंदिर हैं। इसका नाम श्री शिंगणापुर मंदिर है। जो महाराष्ट्र के अहमदनगर ज़िले के शिंगणापुर गांव में स्थित है।

शनि देव का प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर मंदिर – Shani Shingnapur Temple

शिंगणापुर गांव के शनि के मंदिर में एक खुली हवा के प्लेटफार्म पर स्थापित पांच और एक आधा फुट ऊंचा काला पत्थर है, जो कि भगवान शनि का प्रतीक है। एक त्रिशूला (त्रिशूल) को छवि के किनारे रखा गया है और नंदी (बैल) की छवि दक्षिण की तरफ है। सामने शिव और हनुमान की छोटी छवियां हैं।

शिंगणापुर के गांवों का मानना है कि इस शिंगणापुर गांव पर शनि देव की क्रिपा हैं इसलिये इस गांव के किसी भी घर में दरवाजे नहीं हैं, केवल दरवाजा फ़्रेम हैं। यहाँ तक की इस गांव के बैंक को भी दरवाज़ा नहीँ हैं।

आज तक इस गांव से कोई भी कभी भी चोरी नहीं कर चुका है। ग्रामीणों का मानना है कि भगवान श्रीनी चोरी करने वाले व्यक्ति को सज़ा देते हैं गांव के सभी घरों में दरवाजे के बजाय पूरे दरवाजे हैं।

यह माना जाता है कि अमावस्या का दिन भगवान शनि को खुश करने के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता है।

गांव में शनिवार को आये अमावस्या को शनि देवता के सम्मान में एक बड़ा त्योहार आयोजित किया जाता है।

भक्त भगवान शनि की छवि को पानी और तेल के साथ स्नान करते हैं और फूलों चढ़ाते हैं। मेले के दिन शनि के एक पालखी का आयोजन किया जाता है। अन्य त्योहारों में शनि, शनि जयंती का जन्मदिन शामिल है।

लोग मानते हैं कि यहां भगवान बहुत शक्तिशाली है। यह शिर्डी साईबाबा मंदिर से 60 किलोमीटर दूर है। यह महाराष्ट्र में सर्वाधिक दौरा किया गया धार्मिक स्थल है। प्रत्येक दिन लगभग 15000 से 20000 भक्तों ने शनि शिंगणापुर मंदिर की यात्रा की। कई श्रद्धालु भगवान शनीश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए इस मंदिर की यात्रा करते हैं।

शनि की गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी की तुलना में अधिक है। इसलिए, जब हम अच्छे या बुरे विचारों को सोचते हैं और योजना बनाते हैं, तो उनकी शक्ति की ताकत से वह शनि तक पहुंच जाते हैं।

ज्योतिषीय शब्दों में, बुरा प्रभाव को अशुभ माना जाता है लेकिन अच्छे कर्मों का नतीजा अच्छा होगा। इसलिए, हमें भगवान शनी को मित्र के रूप में समझना चाहिए और दुश्मन के रूप में नहीं। और बुरे कामों के लिए, वह सादे साथी, आपदा और एक दुश्मन है।

शनि शिंगणापुर के बारे में रोचक बातें – Interesting things about Shani Shingnapur Temple
  • शनि शिंगणापुर गांव के पूरे इतिहास में चोरी, दंगा, हत्या या बलात्कार का एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया है।
  • शनि शिंगणापुर गांव के लोग छत्रपति शिवाजी महाराज के वंश से हैं।
  • आप इस गांव में शराब, जुआ या गैर-शाकाहारी भोजन नहीं प्राप्त कर सकते।
  • शनि अमावस्या और शनि जयंती के अवसरों पर 10 लाख से अधिक लोग इस मंदिर की यात्रा करते हैं।
  • लोगों को उनकी खोई हुई चीज जैसे धन बटुआ, घड़ी, सोने की चीजें या अन्य कीमती चीजें तुरंत मिलती हैं।

Read More Article –

Padmalay Devsthan – श्री पद्मलाय देवस्थान

शनि शिंगणापुर तक कैसे पहुचें – How to reach Shani Shinganapur

सड़क मार्ग से: शनि शिंगणापुर मंदिर अहमदनगर से 35 किलोमीटर दूर, पुणे से 160 किलोमीटर दूर, औरंगाबाद से 84 किलोमीटर और मुंबई से 295 किलोमीटर दूर है।

रेलवे मार्ग से: अहमदनगर रेलवे स्टेशन सुविधाजनक रेलवे स्टेशन है जो शनि शिंगणापुर शहर में पहुंचता है। शहर से स्टेशन 35 किमी दूर है।

हवाई जहाज मार्ग से: औरंगाबाद (90 कि.मी.) और पुणे (160 किलोमीटर), शनी शिंगणापुर के निकटतम हवाई अड्डा हैं किराए पर टैक्सी और अन्य वाहन हवाई अड्डे के बाहर उपलब्ध हैं।

Like Our Facebook Page – Bhakti Sadhana

About the author

admin

Leave a Comment

error: Content is protected !!